मानवता की रक्षा के लिए कोरोना वैश्विक महामारी में उपयोगी साबित हो रहा योग : राज्यपाल

मोतिहारी:- महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय के शैक्षिक अध्ययन विभाग तथा योग विभाग रांची विश्वविद्यालय रांची के संयुक्त तत्वावधान में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर “योग द्वारा स्वास्थ्य और जीवन कौशल’ विषय पर पांच दिवसीय संकाय संवर्धन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ समन्वयक डॉ आनंद ठाकुर (योग विभाग रांची विश्विद्यालय) ने अतिथियों का परिचय कराकर किया। कार्यक्रम की संरक्षक रांची विश्वविद्यालय की प्रतिकुलपति आचार्य कामिनी कुमार ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने कहा कि इतिहास गवाह है कि हर संकट की घड़ी में मानव जाति ने राह बनाई है। केविवि के शैक्षिक अध्ययन विभाग के प्रो आशीष श्रीवास्तव ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का उद्घाटन राज्यपाल की उपस्थिति में कार्यक्रम की गरिमा बढ़ा देता है।   योग द्वारा जीवन में होने वाले सकारात्मक परिवर्तन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भगवान श्रीकृष्ण के कर्म में कुशलता ही योग है। इसे जीवन में आत्मसात करने की जरूरत है। योग मानवीय जीवन के लिए उपयोगी:- बतौर मुख्य अतिथि झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि मुझे इस बात की खुशी है कि मानवीय जीवन के लिए अत्यंत उपयोगी विधा का सूत्रधार कोई और नहीं बल्कि भारत भूमि है। उन्होंने मानवता की रक्षा के लिए आज वैश्विक महामारी में अत्यंत्र उपयोगी सिद्ध होने वाले योग को अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर स्थापित करने तथा विभिन्न देशों में प्रचार-प्रसार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया अदा किया। इस दौरान उन्होंने योग के विभिन्न आसान और प्राणायाम को लेकर अपना अनुभव साझा किया।
मानव कल्याण का माध्यम बना योग:- कुलपति कार्यक्रम के मुख्य संरक्षक कुलपति प्रो संजीव कुमार शर्मा ने कहा कि भाषा, जाति, धर्म, पंथ की परिधि से ऊपर उठकर योग वर्तमान में मानव कल्याण का माध्यम बना। योग को सिर्फ आसन तक सीमित रखना संकीर्णता है। योग में आसान सिर्फ एक विधा है। योग यम, नियम से प्रारंभ होकर समाधि तक जाता है। जहां मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है। ऐसा हमारे मनीषियों ने कहा है। अतः योग के विस्तृत स्वरूप को समझना होगा। कार्यक्रम के मुख्य संरक्षक रांची विवि के कुलपति प्रो रमेश कुमार पांडेय ने कहा कि योग के द्वारा व्यक्ति सहज, सरल तथा लचीलापन को प्राप्त करता है। शारीरिक एवं मानसिक सुख को प्राप्त करता है। कार्यक्रम में रांची विवि के कुलसचिव प्रो अमर जीत चौधरी, प्रो गणेश शंकर, प्रो टी मुरुणालिनी व डॉ ईश्वर भारद्वाज विशेषज्ञ के रूप में शामिल हुए। कार्यक्रम का संचालन शिक्षा विभाग की सहायक प्रोफेसर मनीषा रानी ने किया। 200 से ज्यादा प्रतिभागी तथा विश्वविद्यालय परिवार के विभागाध्यक्ष, संकायाध्यक्ष तथा सभी प्रोफेसर शामिल हुए।

Live Cricket

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!
Close
Close