कोरोना की दूसरी लहर से जिस तरह अभी पूरा देश जूझ रहा है ऐसे में मनोबल बनाए रखने की जरूरत है:- डॉ राजीव रंजन झा 

सहरसा:- कोरोना की दूसरी लहर से जिस तरह अभी पूरा देश जूझ रहा है ऐसे में मनोबल बनाए रखने की जरूरत है। ऐसा कहना है कटिहार के जानेमाने फिजिशियन एवं ह्रदय रोग विशेषज्ञ डॉ राजीव रंजन झा का। उनका कहना है कि कोरोना एक वायरल रोग है और कोई भी वायरल रोग स्थाई नहीं होता। ये कठिन समय भी गुजर जाएगा। इस बीच जरूरत है कि हम सरकार द्वारा बताये गए निर्देशों का पालन करते हुए सामजिक दूरी और मास्क सम्बंधित एहतियात रखते हुए भीड़ भाड़ जैसी जगहों से यथासंभव बचने की कोशिश करें। ज्यादातर मरीज घर में रहते हुए ही लक्षण आधारित दवायें लेते हुए ठीक हो जाते हैं। अधिकतर मामलों में होस्पिटलाइजेशन की नौबत इसलिए आती है क्योंकि उचित समय पर डॉक्टरों से संपर्क नहीं किया जाता है। उन्होंने कहा कि रैपिड एंटीजेन या आरटीपीसीआर जांच के निगेटिव होने पर निश्चिन्त ना हों, ये फाॅल्स नेगेटिव भी हो सकते हैं। दूसरी बड़ी चूक ये हो रही है कि लोग विडाल टेस्ट पॉजिटिव देखकर टॉयफॉइड मान लेते हैं जबकि विडाल एक स्वस्थ आदमी में भी पॉजिटिव आ सकता है। उन्होंने कहा कि अभी के समय में आवश्यक है कि बुखार या खांसी जुकाम के लक्षणों को हम हलके में ना लें, लक्षण आने पर उचित दवाओं के साथ अपना ऑक्सीजन (SpO2) चेक करते रहें, अगर 5 दिनों के बाद भी तेज बुखार बना रहे या ऑक्सीजन लेवल 94 से कम दिखाए या अत्यधिक कमजोरी महसूस हो तो अविलम्ब अपने डॉक्टर से संपर्क करें। जो लोग संक्रमित नहीं भी हुए हैं उनमे से डायबिटीज के मरीज अपना ब्लड सुगर चेक करवाएं और सुनिश्चित करें की सुगर लेवल नार्मल लेवल में रहे। हार्ट के मरीज जो एस्पिरिन पे हैं अपने डॉक्टर की सलाह के बगैर दवा ना छोड़ें। टीका उपलब्धतानुसार बिना किसी पूर्वाग्रह के यथाशीघ्र लगवाएं।

Live Cricket

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!
Close
Close