खानपान की जानकारी के साथ बच्चों ने जाना कोरोना से बचने के उपाय

कुपोषण से बचाने के लिए लंबाई और वजन की मापी की गई, लॉकडाउन के दौरान घर में की जानेवाली गतिविधियों व खेलकूद के संबंध में भी दी गई जानकारी

बक्सर:-जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों का संचालन फिलहाल स्थगित है। लेकिन, सरकार की ओर से केंद्रों के पोषण क्षेत्र में सभी लाभुकों को योजनाओं व सेवाओं का लाभ दिया जा रहा है।                              इसके अलावा लॉकडाउन के दौरान केंद्र बंद होने के कारण बच्चे कुपोषण का शिकार न हो जाएं, इसके लिए हर तीन माह बाद उनकी लंबाई और वजन की मापी की जाती है। जिससे उनके उम्र के हिसाब से पोषण मीटर की जांच की सके। इसी क्रम में बुधवार को डुमरांव प्रखंड स्थित आंगनबाड़ी केंद्र संख्या-47 में नामांकित बच्चों की वजन व लंबाई की मापी की गई। जिसके बाद उन्हें लॉकडाउन के दौरान घर के अंदर की जाने वाली गतिविधियों व खेलकूद की जानकारी दी गई। जिसके माध्यम से बच्चे आंगनबाड़ी केंद्र के सुचारू रूप से खुलने तक घर में खेल-खेल के दौरान ही पढ़ाई और मनोरंजन एक साथ कर सकेंगे। बच्चों को बताए गए हाथ धोने के फायदें:- सेविका लीलावती ने बच्चों को हाथ धोने के तौर तरीके बताए और उन्हें खाना खाने से पूर्व साबुन से अच्छे तरीके से हाथ धोने को प्रेरित किया। सेविका ने बच्चों को बताया, उनकी बीमारी का बड़ा कारण वह गंदगी है, जो उनके द्वारा बिना हाथ धोए खाने से पेट में ले जाता है।   हाथ की जो गंदगी खाने के साथ मिल कर पेट में जाती है, वह बेहद नुकसानदेह साबित हो सकती है। इसलिए खाना खाने के पूर्व साबुन से 30 सेकेंड तक हाथों को मल मल कर साफ करें। सेविका ने बताया, खेलकूद के बाद भी हाथ धोना चाहिए, क्योंकि वह परदे, खिड़की, दरवाजे, किताबें, कलम, स्कूल बैग, चाबियां, अपने जूते-चप्पल आदि भी छूते रहते हैं। इस तरह इन चीजों पर मौजूद कीटाणु उनके हाथ के माध्यम से उनके पेट में चले जाते हैं। बीमारियों से बचना है, तो उनको दिन भर में कम-से-कम पांच बार हाथ धोने की आदत डालनी होगी। कोरोना बचने के संबंध में भी दी गई जानकारी:- कोराना वायरस के संक्रमण की संभावना को देखते हुए बच्चों को कोरोना से बचाव के संबंध में भी जानकारी दी गई। सेविका लीलावती देवी ने बच्चों व उनके अभिभवकों को बताया, किसी भी बीमारी से बचने का साधारण व सरल तरीका यह है कि बच्चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत किया जाए।  मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए इन बातों का पालन करने की अपील की:-
– बच्चों को रसदार फलों का खूब सेवन कराएं
– बच्चे फल न खाते हों, उन्हें जूस पिला सकते हैं
– रात में सोने से पहले हल्दी वाला दूध भी बच्चों को इन दिनों पीने को दें
– घर में ही उनको खेलकूद के लिए बढ़ावा दें, जिससे उनकी शारीरिक गतिविधि बनी रहे
– बहुत जरूरी हो तभी बच्चों को घर से बाहर ले जाएं
– उन्हें मास्क पहनने की आदत लगवाएं
– बिना कारण बच्चों को घर से बिल्कुल भी ना निकलने दें

Live Cricket

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!
Close
Close