ग्रामीण क्षेत्रों में वैक्सीनेशन के लिए 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को जागरूक कर रही हैं आईसीडीएस कर्मी

प्रखण्ड स्तर पर बाल विकास कार्यक्रम पदाधिकारी (सीडीपीओ) और पंचायत स्तर पर महिला पर्यवेक्षिका कर रहीं हैं वैक्सीनेशन प्रोग्राम की मॉनिटरिंग

बक्सर:- जिले में 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों के टीकाकरण के लिए टीका एक्सप्रेस जिले के सभी प्रखण्डों में अपने कार्यक्रम के अनुसार पंचायत स्तर पर पंचायत के तीन गांवों के स्कूल, सामुदायिक भवन या अन्य सार्वजनिक स्थान पर एकत्रित 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों का टीकाकरण कर रही है। ग्रामीण स्तर पर काम करने वाली आईसीडीएस की आंगनबाड़ी सेविका और सहायिका घर- घर में जाकर 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों का टीकाकरण के लिए जागरूक कर टीकाकरण स्थल तक लाने का काम कर रही है।   इसके साथ ही लोगों के मन में वैक्सीन को लेकर पनपने वाली भ्रांतियों का वहीं समाधान भी करती है। सेविका और सहायिका लोगों को बताती है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए वैक्सीन ही एक मात्र कारगर और स्थायी उपाय है। भारत सरकार के द्वारा उपलब्ध कराई गई दोनों वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित और प्रभावी है। प्रसीडीपीओ और पंचायत स्तर पर महिला पर्यवेक्षिका (एलएस) करती हैं टीकाकरण कार्यक्रम की मॉनिटरिंग:- जिले के सभी प्रखंडो में कार्यरत आईसीडीएस की बाल विकास कार्यक्रम पदाधिकारी (सीडीपीओ) और पंचायत स्तर पर महिला पर्यवेक्षिका टीकाकरण कार्यक्रम की लगातार मॉनिटरिंग कर रही हैं। ये लोग यह सुनिश्चित करने का काम कर रही हैं कि तमाम भ्रांतियों को दूर कर अधिक से अधिक संख्या में लोग वैक्सीनेशन सेंटर पर पहुंचकर टीकाकरण कराएं. ताकि वह खुद को सुरक्षित करने के साथ ही अपने परिवार और समाज को भी कोरोना महामारी की चपेट में आने से बचा सके। वैक्सीन है कोरोना संक्रमण के खिलाफ सबसे कारगर कवच:- आईसीडीएस की जिला कार्यक्रम पदाधिकारी तरणी सिन्हा ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोग खुद के साथ- साथ अपने परिवार और समाज को कोरोना संक्रमण से मुक्ति दिलाने के लिए कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक अवश्य लगवाएं। अभी जिले के सभी प्रखण्डों में टीका एक्सप्रेस के माध्यम से पंचायत स्तर पर 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों को कोरोना का टीका लगाया जा रहा है। कोई भी लोग इस मौका से चुके नहीं। सभी लोग अवश्य ही कोरोना का टीका लगवाएं। आईसीडीएस की पूरी टीम गांव- गांव में घर- घर जाकर लोगों को वैक्सीनेशन के लिए जागरूक कर रही है। उन्होंने कहा कि वह खुद टीकाकरण कार्यक्रम की मॉनिटरिंग के लिए जगह-जगह भ्रमण कर रही हैं। मास्क है सबसे सशक्त सोशल वैक्सीन:- जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ने बताया टीकाकरण के साथ घर के बाहर निकलने पर मास्क का उपयोग एक सबसे सशक्त सोशल वैक्सीन है।   मास्क का नियमित एवं सही तरीके से उपयोग हमें संक्रमण के खिलाफ सबसे पहले सुरक्षा प्रदान करता है। इसके अलावा भीड़ वाली जगह जाने से परहेज और हाथों के साथ घर की स्वच्छता का ध्यान हमें कोरोना संक्रमण के साथ कई मौसमी बीमारियों से भी बचाएगा।

Live Cricket

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!
Close
Close