समाज व परिवार को सुरक्षित करने के लिए सभी को लेना चाहिए कोरोना का टीका : प्रभंजन भारद्वाज

सहित्यकार ने कहा - दूसरा डोज लेने में पीछे न रहे लोग, वैक्सीन लेने के बाद नहीं होगी कोई परेशानी, वैक्सीन लेने के बाद भी कोविड-19 के सामान्य नियमों का करना होगा पालन

बक्सर:- कोरोना से बचाव के लिए टीका लेना जरुरी है। यह पूरी तरह सुरक्षित है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है। किसी भी प्रकार के अफवाहों और भ्रांतियों के फेर में नहीं पड़ें और बीना देर किए अपने नजदीकी टीकाकरण केंद्र में जाकर अपना रजिस्ट्रेशन कराने के बाद टीका लगवाएं। उक्त बातें जिला मुख्यालय स्थित पुस्तकालय रोड निवासी और भोजपुरी साहित्यकार प्रभंजन भारद्वाज ने कही। उन्होंने कहा, सरकार व प्रशासन के साथ स्वास्थ्य विभाग जिलेवासियों को कोरोना के संभावित खतरे से बचाने के लिए वृहद्ध स्तर पर 45 वर्ष व उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण अभियान चला रहा है। जिसमें हम सभी को हिस्सा लेते हुए अपनी जिम्मेदारी को पूरा करना चाहिए। जिससे हम अपने समाज व परिवार को सुरक्षित कर सकेंगे। जब तक जिले के शत-प्रतिशत लोग अपने हिस्से का दोनों डोज नहीं ले लेते, तब तक हम संक्रमण के साये में रहेंगे।
दूसरा डोज लेने में लोग न दिखाएं लापरवाही:-
साहित्यकार प्रभंजन भारद्वाज ने कहा, जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की ओर से बार-बार अपील की जा रही है कि टीके का पहला डोज ले चुके लाभार्थी निर्धारित समय पर दूसरा डोज अवश्य लें।                इस क्रम में अखबारों के माध्यम से मालूम चल रहा है कि लोग दूसरा डोज लेने में उदासीनता दिखा रहे हैं। जो की कहीं उचित नहीं है। लोगों को समझना होगा कि किसी दवा का कोर्स होता है, जिसे पूरा करने के बाद ही संबंधित बीमारी का इलाज संभव है। उसी प्रकार कोरोना के टीके का भी कोर्स है। जब तक हम टीके का दोनों डोज नहीं ले लेते, तब तक हमें संक्रमण का पूरा खतरा रहेगा। इसलिए जरूरी है कि हम टीके का दोनों डोज ले लें। उन्होंने लोगों से समय पर टीके का दूसरा डोज लेने की अपील की। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. राज किशोर सिंह ने बताया, जिले में सभी लाभार्थियों को कोविशील्ड की वैक्सीन दी जा रही है। इसके लिए सरकार के निर्देशानुसार पहले डोज के 84 से 112 दिन (12 से 16 सप्ताह) के बीच दूसरा डोज दिया जाएगा। हालांकि, जिन लोगों ने अन्यत्र स्थानों से को-वैक्सीन का टीका लिया है, वह पूर्व की भांति 4 सप्ताह के बाद ही दूसरा डोज लेंगे। उन्होंने बताया, अगर कोई कोरोना टीका का दूसरा डोज नहीं लेते हैं , तो उसके शरीर के अंदर एंटीबॉडीज विकसित नहीं होगी। इसलिए अगर कोरोना की चपेट से पूरी तरह से बचना है तो समय पर कोरोना टीका का दूसरा डोज अवश्य लें। दूसरा डोज नहीं लेने की लापरवाही भूल से भी नहीं करें। डीआइओ ने बताया कि कोरोना टीका का दोनों डोज ले लेने के बाद भी सावधानी जरूरी है। लोगों को मास्क के प्रयोग के साथ-साथ शारीरिक दूरी का भी पालन करना होगा।

Live Cricket

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!
Close
Close