कोविड टीकाकरण को लेकर व्याप्त भ्रांतियों को दूर करने के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला संचार टास्क फोर्स की बैठक आयोजित

भ्रांतियों, अफवाहों एवं दुष्प्रचार को समाप्त कर लोगों को स्वैच्छिक रूप से टीकाकरण हेतु प्रेरित करने के तरीकों पर किया गया विचार विमर्श

मधेपुरा:- बुधवार को जिला पदाधिकारी श्याम बिहारी मीणा की अध्यक्षता में जिला संचार टास्क फोर्स की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में कोविड टीकाकरण को लेकर व्याप्त भ्रांतियों, अफवाहों एवं दुष्प्रचार को समाप्त कर लोगों को स्वैच्छिक रूप से टीकाकरण हेतु प्रेरित करने के तरीकों पर टास्क फोर्स के सदस्यों द्वारा विचार विमर्श किया गया। जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में आयोजित इस टास्क फोर्स की बैठक में सिविल सर्जन, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी, जिला परियोजना पदाधिकारी (आईसीडीएस), जिला पंचायती राज पदाधिकारी, डब्ल्यूएचओ/यूनिसेफ/केयर इंडिया के प्रतिनिधि आदि ने भाग लिया। इमारत शरिया के माध्यम से संदेश प्रसारित करवाने की दी गई सलाह:- टास्क फोर्स की बैठक के दौरान मुस्लिम धर्मगुरुओं ने धार्मिक संस्थाओं यथा इमारत शरिया का इत्यादि के माध्यम से संदेश प्रसारित करवाने की सलाह दी, ताकि अधिक से अधिक लोग जागरूक होकर टीकाकरण के पक्ष में आ सकें और टीकाकरण करा सकें। बैठक में उपस्थित अपर समाहर्ता ने लोगों में व्याप्त भ्रांतियों और अफवाहों के निराकरण हेतु जानकारी देते हुए बताया कि पल्स पोलियो के टीके का भी विरोध हुआ था, लेकिन आज इसका फायदा हमें दिख रहा है और देश पोलियो मुक्त हो गया है। इसी प्रकार कोरोना वैक्सीन भी पूर्णतः सुरक्षित है और उन्होंने खुद इसका टीका लिया है। संभावित कोरोना की तीसरी लहर से यह वैक्सीन ही हमें बचाएगी। टीका लेने के बाद सुरक्षित एवम् अपने कार्यों का आमदिनों की तरह निर्वहन करने वाले सरकारी कर्मियों, डाॅक्टर, शिक्षक, जीविका दीदियों एवम् आंगनबाड़ी वर्कर्स का डाटा होगा जारी:-जिलाधिकारी ने बैठक में उपस्थित सदस्यों को भ्रांतियों के खंडन के क्रम में बताया कि बहुत से लोगों में टीका लगाने से बुखार हो सकता है, लेकिन इससे व्यक्ति के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित होती है। जिलाधिकारी द्वारा शीघ्र ही इसका डाटा जारी करने की बात कही गई कि जिले में कितने सरकारी कर्मियों, डॉक्टरों, पुलिस कर्मियों, शिक्षकों, आंगनबाडी सेविकाओं, जीविका दीदियों इत्यादि को टीके की खुराक दी गई है, ताकि लोगों को ज्ञात हो सके कि टीका लेने वाले सभी लोग सुरक्षित होकर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह टीका मात्र कोरोना से बचाता है, किसी अन्य बीमारियों से नहीं।   कोविड-19 टीका लगने के बाद भी व्यक्ति को कोरोना हो सकता है, लेकिन उसकी स्थिति चिकित्सीय रूप से गंभीर नहीं होगी। शरीर में एंटीबॉडी बनने में 4 सप्ताह लगते हैं और टीके की दूसरी खुराक बूस्टर खुराक है, इसको लेना जरूरी है। तथ्यहीन दुष्प्रचार का शिकार होकर लोग हो रहे हैं भ्रमित:-जिलाधिकारी जिलाधिकारी ने बैठक उपस्थित लोगों को अवगत कराया कि दक्षिण भारत के शिक्षित राज्यों में टीके की मांग बहुत ज्यादा है। मधेपुरा में सबको टीका देना चाहते हैं, लेकिन लोग भ्रांतियों और अफवाहों की वजह से टीका नहीं ले रहे हैं। इसके संबंध में तथ्यहीन दुष्प्रचार का शिकार होकर लोग भ्रमित हो रहे हैं। उन्होंने बताया टीका लगाने पर पहले दिन हल्का बुखार किसी किसी को हो सकता है, जो शरीर में एंटीबॉडी के निर्माण के समय होता है। इससे निपटने के लिए टीका के समय बुखार की दवा भी दी जाती है। जिले में टीके की पर्याप्त खुराक है उपलब्ध:- जिलाधिकारी ने भी बताया कि जिले में टीके की पर्याप्त खुराक उपलब्ध है। 9-10 जून को टीकाकरण के व्यापक अभियान हेतु बड़ी संख्या में टीकाकरण केंद्र चलाया जाएगा। एक ही सत्र स्थल पर 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों और 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों को टीका देने की व्यवस्था की जाएगी। अगले छह 7 महीने तक टीकाकरण का अभियान चलना है टीकाकरण हेतु जागरूकता बढ़ाने के सभी कार्य किए जाएंगे। हज पर जाने वालों के लिए टीके की दोनों खुराक आवश्यक:- मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा कि हज पर जाने वालों के लिए टीके की दोनों खुराक आवश्यक है। अजान के समय मस्जिदों से टीके के संबंध में माइकिंग कराने पर सकारात्मक परिणाम आ सकते हैं। इस संबंध में प्रखंड स्तर पर भी धर्म गुरुओं की बैठक कराने का उन्होंने सुझाव दिया। इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि यह स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि टीका कितना जरूरी है। बेहतर कार्य करने वालों को मिलेगा प्रशस्ति पत्र:- जिलाधिकारी ने बेहतर काम करने वाले सिविल सोसाइटी के लोगों, वॉलिंटियर्स, डॉक्टरों एवं सरकारी कर्मियों को प्रशस्ति पत्र/सम्मान पत्र देने का भी प्रस्ताव रखा। इस समय बेहतरीन ढंग से मानवता की सेवा करने से आत्म संतुष्टि भी होगी। उन्होंने हॉस्पिटलों, स्कूलों अथवा निजी स्कूलों में वन स्टॉप सेंटर खोलने की भी बात कही, जहां कोविड टीकाकरण के साथ सैंपलिंग और चिकित्सीय परामर्श भी उपलब्ध कराया जायेगा। जिले में 24 X 7 टीकाकरण केंद्र भी खोला जाएगा। जिलाधिकारी ने प्रखंड स्तर पर शिक्षकों के लिए सीआरसी में कैंप लगाकर टीकाकरण कराने का निर्देश भी दिया। शिक्षक समाज में जनमत निर्माता के रूप में कार्य करते हैं। उन्होंने जिले में कोरोना टीकाकरण के लिए ब्रांड एंबेसडर बनाने का भी सुझाव दिया जो जनमत निर्माता के रूप में अपने छोटे-छोटे वीडियो संदेश जारी कर लोगों को प्रेरित कर सकें।

Live Cricket

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!
Close
Close