बिहार में एक हजार से अधिक लोग संस्कृत बोलने का ले रहे हैं प्रशिक्षण, संस्कृत भारती के द्वारा संचालित ऑनलाइन वर्ग में उत्साह से लोग रहे है प्रशिक्षण

दस दिनों के प्रशिक्षण से लोग बोलने लगते है संस्कृत, 16 से 26 जून तक आयोजित है सम्भाषण शिबिर, 26 को सामूहिक होगा समापन समारोह, प्रशिक्षु कहेंगे वर्ग का अनुभव

सहरसा:- संस्कृत भाषा किसी वर्ग विशेष की भाषा न होकर जन सामान्य की भाषा है। जिसे वर्तमान समय नूतन पद्धति के आधार पर पुष्पित एवं पल्लवित करने की आवश्यकता है।   इसी उद्देश्य को साकार के लिए इन दिनों संस्कृत भारती बिहार प्रान्त न्यास के तत्त्वावधान में बिहार के लोगों को निःशुल्क संस्कृत बोलना सीखाया जा रहा है। कोरोना से उत्पन्न आपदा को अवसर में बदलने के उद्देश्य से घर बैठे ऑनलाइन संस्कृत सम्भाषण वर्ग आयोजित की गई है।   उक्त आशय की जानकारी देते हुए संस्कृत भारती कोशी प्रमंडल के डॉ.कुमुदानन्द झा प्रियवर ने बताया कि 6 से 16 जून तक दस दिवसीय ऑनलाइन निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जिसमें कुल पंजीकृत 1296 प्रशिक्षुगण सम्मिलित है। जिसमें न केवल छात्र अपितु न्यायाधीश, चिकित्सक, प्रशासनिक पदाधिकारी एवं शिक्षकगण भी दर्जनों की संख्या में प्रशिक्षण ले रहे है। प्रान्त प्रचार प्रमुख डॉ रामसेवक झा ने कहा बिहार के 38 जिलों के प्राप्त पंजीयन के आधार पर कुल सात वर्गों में प्रशिक्षुओं को विभक्त किया गया है। प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षित करने के लिए सात प्रशिक्षक एवं सात सह प्रशिक्षकों की प्रतिनियुक्ति की गई है।  मधुबनी, मुंगेर एवं समस्तीपुर जिलों के प्रशिक्षुगण के लिए प्रशिक्षक डॉ.संजीत कुमार झा एवं सह प्रशिक्षक हरिशंकर सिंह प्रतिनियुक्त है। दरभंगा, बक्सर एवं बांका जिलों के लिए प्रशिक्षिका अंशु कुमारी एवं सह प्रशिक्षक विवेक कौशिक उत्साह पूर्वक प्रशिक्षण दे रहे है। मधेपुरा, औरंगाबाद एवं गया जिलों के लिए भारतीश्री एवं गीता कुमारी प्रशिक्षण दे रही है । पूर्वी चम्पारण, भोजपुर, शिवहर, कैमूर एवं अररिया जिलों के लिए मनीष कुमार झा एवं राजकिशोर प्रशिक्षण दे रहे है। पश्चिम चंपारण,गोपालगंज जिलो के लिए प्रशान्त सौरभ एवं डॉ.विभाकर दूबे प्रशिक्षण दे रहे है। सिवान,छपरा,वैशाली,सहरसा एवं रोहतास जिलों  के लिए संदीप कुमार मिश्र एवं विद्यासागर झा प्रशिक्षण दे रहे है। शेष 16 जिलों के प्रशिक्षुओं के लिए प्रशिक्षक विवेक कौशिक संस्कृत सम्भाषण करना सीखा रहे है।   प्रातः 10 बजे से रात्रि 9 बजे तक प्रतिदिन प्रशिक्षण कार्य जनपदों के आधार पर चल रहा है। प्रशिक्षण की समाप्ति 16 जून को समारोह पूर्वक सामूहिक आयोजित की जाएगी। जिसमें प्रशिक्षण प्राप्त अभ्यर्थियों द्वारा ही सम्पूर्ण कार्यक्रम संचालित होगा।

Live Cricket

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!
Close
Close