अब दिव्यांगता के कारण कोई महिलाएं परिवार व समाज में उपेक्षित नहीं रहेगी

सहरसा:-अब दिव्यांगता के कारण कोई महिलाएं परिवार व समाज में उपेक्षित नहीं रहेगी। दिव्यांगों को समाज की मुख्यधारा में शामिल करने के लिए सरकार जहां कई योजनाएं चला रही है। वहीं जीविका दिव्यांगता के कारण उपेक्षा की शिकार हो गरीब परिवार की महिलाओं को सहयोग कर उन्हें अपने पैरों पर खड़ा करने की रणनीति बनाई है, ताकि अन्य महिलाओं की तरह यह दिव्यांग दीदियां भी समाज की मुख्य धारा में शामिल हो सके। इन महिलाओं को अन्य समूहों की अपेक्षा अधिक सहयोग करने की योजना बनाई गई है, ताकि दिव्यांग महिलाएं स्वयं आत्मनिर्भर बनकर अपने और परिवार की परवरिश करें और समाज में अपनी पहचान भी बना सके। जिले में गठित हुआ 53 दिव्यांग महिला स्वयं सहायता समूह:-जीविका समूह द्वारा अबतक जिले में दिव्यांग महिलाओं का 53 स्वयं सहायता समूह का गठन गठित किया है। पतरघट प्रखंड में 28, महिषी में तीन, सलखुआ में छह, कहरा में चार, सत्तरकटैया में दस तथा सोनवर्षा में दो स्वयं सहायता समूह का गठन किया गया। सभी समूहों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है। इन समूहों का बचत खाता खोला जा रहा है।   तत्पश्चात बैंकों के सहयोग से इन समूह की महिलाओं को वित्तपोषित किया जाएगा और प्राथमिकता के आधार पर जीविकोपार्जन के लिए दिव्यांग दीदियों को सहायता दी जाएगी। दिव्यांग समूह की महिलाओं को मिलेगा पचास हजार परिकर्मी निधि:-आमतौर पर जीविका समूह के माध्यम से समूह की महिलाओं को अपने रोजगार के लिए 15 हजार परिकर्मी निधि दी जा जाती है। दिव्यांग समूह गठित होने के बाद इस समूह की महिलाओं को पचास हजार परिकर्मी निधि (आरएफ) उपलब्ध कराया जाएगा। ताकि शारीरिक अपंगता के बावजूद सुगमता से दिव्यांग महिलाएं अपने जीवन-यापन के लिए स्वरोजगार प्रारंभ कर सके। इसके लिए जीविका समूह द्वारा संबंधित अधिकारियों और कर्मियों को विशेष प्रशिक्षण भी दिया है। इसके लिए जिला प्रशासन स्तर से भी बैंकों को उचित निर्देश दिया जा रहा है। प्रथम चरण में सभी समूहों को एक लाख दस हजार रुपये पूंजी के रूप में दिया जाएगा। बाद में जरूरत के अनुसार इन्हें और सहायता दी जाएगी। डीपीएमअमित कुमार ने बताया कि गरीब परिवार की दिव्यांग महिलाएं समाज ही नहीं परिवार में भी उपेक्षित महसूस करती है। उन्हें समाज की मुख्यधारा में जोड़ने और जीवन का बेहतर अवसर प्रदान करने के लिए जीविका ने प्रयास शुरू कर दिया है। यह प्रयास दिव्यांग महिलाओं को नवजीवन प्रदान करेगा।

Live Cricket

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!
Close
Close