मिशन परिवार विकास अभियान- दंपतियों को जागरूक करते हुए पुरुषों को नसबंदी के लिए प्रेरित करें

सदर प्रखंड के 26 पंचायतों में किया जाएगा प्रचार-प्रसार

सुपौल:- मिशन परिवार विकास अभियान के तहत जिले में जनसंख्या स्थिरीकरण के प्रयास किये जा रहे हैं। इस अभियान के तहत 14 नवम्बर से 04 दिसम्बर तक पुरुष नसबंदी पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है। जनसंख्या स्थिरीकरण को लेकर स्वास्थ्य विभाग की ओर से कई महत्वपूर्ण कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। उनमें से एक मिशन परिवार विकास अभियान के अंतर्गत लोगों को जागरूक करते हुए पुरुष नसबंदी पखवारा आयोजित किये जाने का अतिमत्वपूर्ण निर्णय सरकार द्वारा लिया गया है। फ्रंट लाइन वर्करों को इसकी जिम्मेदारी दी गई है कि वो दंपतियों को जागरूक करते हुए पुरुषों को नसबंदी के लिए प्रेरित करें। ताकि, परिवार नियोजन कार्यक्रम में पुरुषों की भागीदारी बढ़ाई जा सके। साथ ही लोगों में परिवार नियोजन के प्रति जागरुकता फैलाने के उद्देश्य से आज सिविल सर्जन डा. मिहिर कुमार वर्मा, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डा. सी. के. प्रसाद एवं उपस्थित स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा प्रचार प्रसार के उद्देश्य से सारथी रथ को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया गया।  सदर प्रखंड के 26 पंचायतों में किया जाएगा प्रचार-मौके पर मौजूद जिला योजना समन्वयक बाल कृष्ण चौधरी ने बताया मिशन परिवार विकास अभियान के तहत आयोजित पुरुष नसबंदी पखवाड़ा दो चरणों में सम्पन्न कराये जाने के निदेश प्राप्त हुए हैं। इसके प्रथम चरण 14 से 20 नवम्बर तक दम्पति सम्पर्क सप्ताह एवं 21 नवम्बर से 4 दिसम्बर तक परिवार नियोजन सेवा पखवाड़ा का आयोजन किया जाना है। प्रथम चरण के तहत दम्पति सम्पर्क के लिए सदर प्रखंड के 26 पंचायतों में प्रचार प्रसार के लिए सारथी रथ रवाना किये गये हैं। जो पंचायतों में जाकर आशा फैसिलिटेटरों एवं आशा कार्यकर्त्ताओं से समन्वय स्थापित करते हुए लोगों को मिशन परिवार विकास अभियान के उद्देश्यों से अवगत कराते हुए योग्य दम्पति की खोज सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने बताया पखवाड़ा के दौरान स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा स्वास्थ्य केंद्रों पर आने वाले योग्य दम्पतियों को गर्भनिरोधक के संबंध में परामर्श देते हुए इच्छित गर्भ निरोधक साधन अथवा सेवा उपलब्ध करायी जाएगी। पखवाड़े के दौरान आशा द्वारा कंडोम और गर्भनिरोधक गोलियों के वितरण पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। लाभार्थी को बार-बार केंद्रों पर आने एवं बार-बार संपर्क से बचने के लिए कंडोम और गर्भनिरोधक गोली के अतिरिक्त पैकेट आपूर्ति की जा सकती है।सभी सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में आयोजित किये जायेंगे कार्यक्रम-उन्होंने बताया जिले के सभी सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में मिशन परिवार विकास अभियान, आशा व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों के सहयोग से चलाया जा रहा है। आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को परिवार नियोजन के विषय में जागरूक करेंगी, व इच्छुक लोगों को परिवार नियोजन हेतु प्रेरित करेंगी।

Live Cricket

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Don`t copy text!
Close
Close